बोधगया पूरे संसार के रहने वाले बौद्धों के सबसे महान भूमि है. क्यों की बहुत ही समय के बाद जो इस संसार में जन्म लेने वाले महा पुरुष तथागत भगवान बुद्ध की सम्बुद्धत्व की प्राप्ति यहाँ हुआ था. इसलिए सारे बौद्ध धर्म के लोगों के लिए यह शुद्ध भूमि अपना मातृभूमि जैसा माना जाता है .राग, लोभ, क्रोध, नफरत, जलन, मोह माया, अहंकार, घमंड इत्यादि ये सारे गंदगियों को सम्पूर्ण रूप से नष्ट करके मुक्ति एवं शांति को पाने के लिए तथागत भगवान बुद्ध ने एक सुन्दर मार्ग सारे देव मानव को बता दिया है. वह मार्ग का नाम है आर्य अष्टांगिक मार्ग. ये शुद्ध ज्ञान तथागत भगवान बुद्ध इस बोधगया शुद्ध धरती पे प्राप्त किए है. ...

Read more

हे, पुण्य जन, पुण्यशील बच्चे, हे, पुण्य जन, पुण्यशील बच्चे, हमारे गौतम बुद्ध पिता जी ने इससे दो हज़ार पाँच सौ वर्शों के पहले इस दुनिया में जन्म लिया है। इस समय के मानव सत्य का बोध पाने की अभिलाशा से अनेक साधनों का अनुगमन करते रहते थे, लेकिन वे भाग्यशाली हैं,क्येंकि गौतम बुद्ध, जिन्होंने स्वयं सत्य का बोध प्राप्त किया है, उन्हें खोज-खोजकर इस विस्मित सत्य का विवरण करते थे। उसे सुनकर, वे मनुश्य पूरे भारत के लिए एक स्वर्णमय युग का प्रदान करते हुए ऋशि-मुनि बन गये हैं। जीवन में पीड़ा, वेदना, उतावलापन, गड़़बड़ी या दुख देनेवाले जो कुछ हैं, इन सबसे मुक्ति पाने में वे समर्थ हो गये थे। भय,...

Read more

Sunday Dhamma School

कोई- कोई बच्चे पढने में बहुत चतुर है. लेकिन उन्हें आगे बड़ने की क्षमता नहीं है, वैसे बच्चे लोगों को बड़े स्कूल में जाकर अपना पढाई करके जीवन सफलता बनाने के लिए बुद्ध ज्ञान आश्रम के तरफ से मदद मिलता है.

Latest Images

बुद्ध ज्ञान आश्रम से करनेवाले दान पुण्य कर्म का सुंदर दर्शन को देखने केलिए इस पेज में जाइए..
Please visit this page to see the latest images of Buddhagyan Ashram.

Donations

हमारे बुद्ध ज्ञान आश्रम से बहुत प्रकार के सेवा होते है. भारत देश को आगे बढ़ाना हमारे महत्व पूर्ण शुद्ध संकल्प है. इसके लिए हम सबसे पहले बच्चों को सुधारते है. हमारे निः शुल्क सेवा तथा योजना इस प्रकार के है.

Address

Buddha Gyan Ashram, Ratti Bigha,
Bodhgaya-824231, Gaya, Bihar, India.
Phone: 0091 900 602 9637
Email: buddhagyan@gmail.com

All Rights Reserved

Contents of this website are fully protected by copyright laws. Copyright of some images belongs to their ownership.Downloading any contents for personal use is allowed. Selling these contents is strictly prohibited. Uploading any of these articles and audio or video contents on the web for any purpose is not allowed without a written consent of the 'Buddhagyan.org'.